Concerns (चिंतन)

What is concerns 2022

Concerns (चिंतन)

Concerns (चिंतन) का संबंध संज्ञानात्मक पक्षों से हैं। चिंतन एक मानसिक क्रिया है जिसमें व्यक्ति अपूर्व अनुभव के आधार पर भाषा चिन्ह संकेतों मानसिक शक्तियों प्रत्यक्षीकरण आदि के प्रयोग करते हुए समस्या समाधान करता है।

Concerns (चिंतन)  से संबंधित महत्वपूर्ण परिभाषाएं

  • गेरीट के अनुसार : चिंतन एक प्रकार का अदृश्य व्यवहार है जिसमें सामान्य रूप से प्रतीकों का प्रयोग होता है।
  • वैलेंटाइन के अनुसार : मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से चिंतन शब्द का प्रयोग उस क्रिया के लिए होता है जिसमें श्रृंखलाबद्ध विचार किसी लक्ष्य की ओर अविराम गति से प्रवाहित होते हैं।
  • स्किनर के अनुसार : सीखना तथ्यों एवं सूचनाओं का यांत्रिक प्रस्तुतीकरण नहीं है बल्कि इसके आगे भी कुछ है।
  • बेरॉन, 1992  : “चिंतन में सम्प्रत्ययों, प्रतिज्ञाप्ति तथा प्रतिमाओं का मानसिक जोड़-तोड़ होता है ।”
  • concerns

 Concerns (चिंतन) की विशेषताएं हैं

  • चिंतन एक मानसिक क्रिया है जो कि एक प्रकार का आंतरिक पक्ष है।
  • चिंतन का प्रारंभ समस्या या कठिनाई से होता है।
  • चिंतन की समाप्ति समस्या के समाधान पर होती है।
  • चिंतन समायोजन का आधार है।
  • चिंतन अधिगम में सहायक है।
  • चिंतन सरल से कठिन ज्ञात से अज्ञात स्थूल से सूक्ष्म की ओर होता है।
  • चिंतन का संबंध विभिन्न प्रकार के चिन्नू भाषा व मानसिक शक्तियों से हैं।
  • चिंतन विश्लेषण व संश्लेषण दोनों है।

Concerns (चिंतन) के साधन

चिंतन को मुख्य रूप से चार प्रकार में विभक्त किया गया है

  1. बिंब
  2. संप्रत्यय
  3. प्रतीक चिन्ह
  4. भाषा।

Concerns (चिंतन) के प्रकार

1. मूर्त/ प्रत्यक्ष / चिंतन

  • यह निम्न स्तर का चिंतन है।
  • विशेष रुप से छोटे बालकों या मंदबुद्धि बालकों के लिए हैं
  • प्रत्यक्षीकरण पर आधारित है।

यह चिंतन उच्च स्तर का चिंतन होता है यह प्रतिभाशाली वह बड़े

2. अमूर्त या प्रत्ययआत्मक चिंतन

  • बालको के लिए होता है।
  • इसमें शब्दों व चिन्न व विचारों पर आधारित होता है ।

3. कलात्मक सृजनात्मक रचनात्मक चिंतन

  • किसी वस्तु ,घटना या तथ्य की सच्चाई को स्वीकार करने के पहले उसके गुण दोष की परख कर लेना
  • इस चिंतन का संबंध नवीनता वह मौलिकता से होता है
  • कलाकार चित्रकार संगीतकार जैसे
  • इसका स्वरूप अपसारी होता है।

4.तार्किक चिंतन

  • यह चिंतन तर्क- वितर्क पर आधारित होता है।
  • इसमें किसी समस्या का समाधान किया जाता है यह उच्च स्तर का चिंतन होता है।

5. निर्देशित चिंतन

  • यह चिंतन पूर्व निर्धारित नीतियों व योजनाओं से संबंधित होता है और यह लक्ष्य की प्राप्ति पर स्वत ही समाप्त हो जाता है।

6. अनिर्देशित चिंतन

  • यहां चिंतन कोई पूर्व निर्धारित नीतियां योजना से संबंधित नहीं होता है बल्कि बालक निरंतर सफलता प्राप्त करने के लिए चिंतन मनन करता रहता है इस प्रकार का चिंतन और निर्देशित चिंतन कल आता है ।

7. परावर्तित चिंतन

इसका संबंध पूर्व अनुभव व शूज पर आधारित एक अंतर्दृष्टि से संबंधित होता है इसके आधार पर बालक समस्या का समाधान करता रहता है यह चिंतन गेस्टाल्ट वादी से संबंधित है।

गिलफोर्ड  (GILFORD )चिंतन के पांच बौद्धिक प्रक्रिया है बताइए ।

  1. संज्ञान
  2. स्मृति
  3. अभिसारी चिंतन
  4. अपसारी चिंतन
  5. मूल्यांकन

संज्ञान- इसमें ज्ञान प्राप्ति तथा पहचानना से संबंधित प्रक्रियाओं को सम्मिलित किया गया है।
स्मृति – इसमें याददाश्त क्षमता धारणा अवबोध करना से संबंधित प्रक्रियाओं को सम्मिलित किया गया है।
अभिसारी चिंतन-इसमें बालक चिंतन मनन करता हुआ अनेक विकल्पों में से कोई भी एक विकल्प का चुनाव करता है।
नोट : प्रतिभाशाली बालक की बुद्धि अभिसारी चिंतन प्रकार की होती है

अपसारी चिंतन इस चिंतन में मन करता हुआ व्यक्ति या बालक एक विस्तृत उत्तर प्रस्तुत करता है

नोट  सृजनशीलता बालक में अपसारी चिंतन पाया जाता है।

मूल्यांकन इसमें विभिन्न क्रियाओं के माध्यम से अंतिम निर्णय लिया जाता हैऔर ब्लूम के द्वारा दिया गया OBJECTT में मूल्यांकन को सर्वोच्च स्थान पर रखा गया है।

Read Next Topic : Learning transfer theory

Concerns (चिंतन)  से संबंधित FAQ’s

Q.1 निम्न में से कौन चिन्तन में हमेशा सम्मिलित नहीं होता है
1- भाषा
2- सम्प्रत्य
3- प्रतिमा
4- प्रतीक

Ans (1)

Q. 2 स्वली चिन्तन में अभिव्यक्ति होती है –
1- अभिप्रेरणा की
2- भाषा की
3- काल्पनिक विचार तथा इच्छाओं की
4- वास्तविक स्थिति की

Ans (3)

Q-3 निम्नाकिंत में से कौन यथार्थवादी चिन्तन का उदाहरण नहीं है
1- अभिसारी चिन्तन
2- सर्जनात्मक चिन्तन
3- स्वली चिन्तन
4- आलोचनात्मक चिन्तन

Ans (3)

Q-4 श्याम प्रत्येक वस्तु को उसके गुण दोषों के बारे में चिन्तन करने के पश्चात ही ख़रीदता है यह उदाहरण हैं
1- अपसारी चिन्तन
2- जटिल चिन्तन
3- स्वली चिन्तन
4- आलोचनात्मक चिन्तन

Ans (3)

Q.5 गिलफोर्ड ने अभिसारी चिंतन पद का प्रयोग किससे समान अर्थ में किया है ?

1.बुद्धि
2.सृजनात्मकता
3.बुद्धि एवं सृजनात्मकता
4. इनमें से कोई नहीं
Ans (2) 

Leave a Comment

Your email address will not be published.