Kurt Lewin Field Theory 2022

कुर्ट लेविन क्षेत्र अधिगम का सिद्धांत परिचय  

  • Kurt Lewin Field Theory का प्रतिपादन 1917 में कुर्ट लेविन द्वारा किया गया।
  • कुर्ट लेविन एक जर्मन मनोवैज्ञानिक हैं।
  • इनका जन्म 1890 में जर्मनी में हुआ।
  • कुर्ट लेविन गेस्टाल्टवाद को पूरी तरह से मानते हैं तथा इसके समर्थक हैं।
  • कुर्ट लेविन कहते हैं “व्यक्ति मनोवैज्ञानिक व्यक्ति होता है।”
  • कुर्ट लेविन के क्षेत्र अधिगम (Field Theory) सिद्धांत के अंतर्गत ही संज्ञानात्मक सिद्धांत (Cognitive Theory) आता है।
  • इस सिद्धांत में संज्ञानात्मक संरचना को ही क्षेत्र (Field) बोला गया है।
  • क्षेत्र मनोविज्ञान शब्द कुर्ट लेविन का ही है तथा इस पर इन्होंने पीएच.डी. की है।
  • कुर्ट लेविन के अनुसार प्राणी व्यवहार उन सभी कारकों द्वारा प्रभावित होता है जो उसके क्षेत्र के वातावरण में उपस्थित हैं।
  • इस सिद्धांत के अनुसार भय (threat), लक्ष्य (goal) और बाधा (barrier) मुख्य कारक हैं। यदि किसी व्यक्ति को लक्ष्य प्राप्त करना है, उसे बाधा को पार करना होगा।
Kurt Lewin Field Theory
Kurt Lewin

कुर्ट लेविन ने क्षेत्र अधिगम सिद्धांत ( Kurt Lewin Field Theory ) के अंतर्गत 3 पद

  1. अभिप्रेरणा
  2. समग्रता
  3. अनुभूति

क्षेत्र अधिगम सिद्धांत ( Kurt Lewin Field Theory ) के अन्य नाम

  1. लक्ष्य का सिद्धांत
  2. अधिगम का तल रूप सिद्धांत
  3. प्राकृतिक दिशा का सिद्धांत
  4. सदिश का सिद्धांत
  5. सही दिशा का सिद्धांत
  6. समूह गतिकी का सिद्धांत
  7. व्यवहार गति का सिद्धांत
  8. गत्यात्मक विकास का सिद्धांत
  9. समूह गतिशीलता का सिद्धांत
  10. तलरूप का सिद्धांत

कुर्ट लेविन का मानना है कि कुछ बल हमारे व्यक्तित्व से होते हैं जो हमारी आवश्यकताओं एवं इच्छाओं पर आधारित होते हैं। तथा कुछ ऐसे बल होते हैं जो हमारे सामाजिक एवं प्राकृतिक वातावरण में होते हैं तथा हमें प्राकृतिक एवं सामाजिक संगठन के अनुसार व्यवहार करने के लिए प्रेरित करते हैं।

कुर्ट लेविन का व्यवहार सूत्र (Field Theory)

कुर्ट लेविन ने व्यवहार को बताने के लिए व्यवहार का सूत्र दिया तथा कहा “मानव व्यवहार व्यक्ति और वातावरण का प्रतिफल है।

B=f(E×P)

जहां,
B= व्यवहार
f= कार्य
E= मनोवैज्ञानिक पर्यावरण वातावरण
P= मनोवैज्ञानिक व्यक्तित्व

जीवन दायरा (Life Space) 

यह वह स्थिति या समय है जब कोई प्राणी चेतन अवस्था में किसी घटना का प्रत्यक्षीकरण कर रहा हो। जीवन दायरे के अंतर्गत कुर्ट लेविन ने निम्न शब्दावलियों का प्रयोग किया।

तलरूप (Topology)

Kurt Lewin Field Theory के अनुसार जीवन दायरे का कोई निश्चित आकार नहीं होता। तलरूप जीवन दायरे की संरचना को बताता है। जीवन दायरे की संरचना उसमें उपस्थित कर्षण एवं सदिश के अनुसार बदलती रहती है। जिस प्रकार जीवन दायरे में उपस्थित कर्षण एवं सदिश में बदलाव आता है उसी के साथ-साथ जीवन दायरे की संरचना में भी बदलाव आते रहते हैं। जीवन दायरे के निरंतर परिवर्तन को ही तलरूप कहा जाता है।

Read Next Topic : Hull Theory of  Reinforcement

1 thought on “Kurt Lewin Field Theory 2022”

Leave a Comment